Wednesday, January 7, 2015

मुसलमान चाहें तो 'घर वापसी' को भाजपा के ताबूत में आख़री कील बना दें। Sharif Khan

पाप का घड़ा भरने पर जब फूटता है तो पापी के अस्तित्व को मिटा देता है। भाजपा और उसके कुनबे द्वारा रथ यात्रा, मस्जिद विध्वंस और उसके बाद गुजरात में मुसलमानों के साथ हैवानियत का खेल खेलने के बाद देश भर के शैतानों का समर्थन प्राप्त करके केन्द्र में सत्ता प्राप्ति से उत्साहित होकर अब 'घर वापसी' के नाम से मुसलमानों को हिन्दू बनाने का जो अभियान चलाया जा रहा है यह कोई सामान्य बात नहीं है। इस अभियान के पीछे केवल मुस्लिम दुश्मनी होती तो उसको दो भाइयों के झगड़े की तरह से मिल बैठ कर समाप्त किया जा सकता था लेकिन मुसलमानों को हिन्दू बनाये जाने की मानसिकता केवल मुस्लिम दुश्मनी न होकर इस्लाम दुश्मनी है जिसका अर्थ यह है कि भारत से इस्लाम के वजूद को मिटाने की योजना बनाई गई है जिसके सबूत के तौर पर एक शैतान का यह कथन ही काफ़ी है कि 2021 तक देश में कोई मुसलमान न बचेगा या यूं कहिये कि देश से इस्लाम का अस्तित्व समाप्त कर दिया जाएगा। भाजपा का ग़ुलाम मीडिया इस योजना में बराबर का शरीक है। जब पाप का घड़ा भर चुका होता है तो हर दाव उल्टा पड़ने लगता है। यदि 'घर वापसी' का दाव उल्टा पड़ गया तो भाजपा की मौत निश्चित है।  
यदि इस बात को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर देखें तो दुनिया भर में बसे हुए और रोज़ी रोटी के लिए गए हुए हिन्दुओं को इस अभियान की प्रतिक्रिया में बहुत बड़ी क़ीमत चुकानी पड़ सकती है। 1972 में युगांडा से भारतीयों को जब निकाला गया था तो हालांकि उनको अपनी सम्पत्ति लेजाने का अधिकार दिया गया था लेकिन इसके बावजूद भी ऐसा लगता था जैसे लोग लुटे पिटे आये हों और इस घटना ने पूरे देश को हिला दिया था।  
आज हिन्दू दुनिया के लगभग हर देश में मौजूद हैं लेकिन राजनैतिक दृष्टिकोण से दो तीन छोटे छोटे देशों के अलावा कहीं भी उनका वर्चस्व क़ायम नहीं है हालांकि बांग्लादेश जैसे देश में तो करोड़ों की तादाद में हैं जबकि मुसलमान भी दुनिया के हर देश में मौजूद हैं और दुनिया के लगभग एक तिहाई देशों में हुकूमत कर रहे हैं। 
मुसलमान आपस में चाहे कितने भी लड़ते हों लेकिन ऐसे तबके के लोगों को पसन्द नहीं करते जो इस्लाम के वजूद से ही नफ़रत करता हो और उसको मिटाने के अभियान पर काम कर रहा हो और अभियान भी ऐसे योजनाबद्ध तरीक़े से हो जिसमें 2021 तक की समय सीमा भी तय कर दी गई हो। 
यदि पूरा मुस्लिम समाज भारत के इन बदमाशों की इस योजना को सारी दुनिया के देशों में प्रचारित करना अपना धार्मिक कर्तव्य बना ले और केवल शैतानों के बयानात और मुसलमानों को हिन्दू बनाये जाने की तस्वीरें ही अपने हर ज़रिये को काम में लेते हुए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचारित कर दे और इस प्रकार उसकी कहीं से भी प्रतिक्रिया आ गई तो निश्चित रूप से देश का हिन्दू समाज ही आर एस एस के अड्डे को उखाड़ फैंकेगा। यदि ऐसा हो सका तो भाजपा के ताबूत में तो यह आख़री कील साबित होगी। इसके बाद यह देश एक बार फिर हिन्दू मुस्लिम भाईचारे से महकता नज़र आएगा। 

3 comments:

Dhananjay Chaturvedi said...

भाई बहुत बड़ी खुशफहमी में जी रहे है आप, हिन्दुओ का वर्चास्वा एक दो छोटे छोटे देशो में नहीं बल्कि दुनिया के सबसे ताकतवर मुल्को में है और मुस्लमान जिन ५६ देशो की बात करते है वो हमारे एक जिले के बराबर है और उनका वर्चास्वा देखना हो तो आजम खान के साथ अमेरिका जाओ जहा उसके कपडे उतरवा लिए जाते है,और रही बात घरवापसी की समस्या तो जनाब आपकी इज्जत तो अरब देशो में भी नहीं है.

Raj Mishra said...

yaar sarif khan aap apni dekho aap k madrsho me kya padhaya jata hain sirf nafarat ......kafir musriq..madrshachap arbi baddu ..naam badal kar ...rahte hain phir jahan khate hain wahi ghat karte hain yeh islam ki talim hain .aap batao pakistan bangladesh me kya ho raha hinduwo k saath uske liye nahio bolo ge ..kyo...dharam parivartan tumhare allah miya ki den hain randiya rakhna aap k majhab me ahin humare me nahi ...

gumanji patel said...

😂आतंकवादी जब तक आतंक ज्वाईन नहीं करता तब तक उसका धर्म होता है,
आतंक ज्वाईन करते ही उसका धर्म खत्म हो जाता है,
जैसे ही उसका एनकाउन्टर होता है धर्म फिर से लग जाता है.
...साला धर्म न हुआ जांघिया हो गया, जब मर्जी उतार दिया, जब मर्जी पहन लिया.😬😬😬